3:13 pm - Wednesday December 17, 6769

अनिश्चितकालीन शिक्षा कर्मियो के अपने 9 सूत्रीय मांगो को लेकर सुरु हुए आंदोलन को समर्थन देने काली पट्टी लगाकर पहुचे तरुण हथेल

1राजनांदगाव(मो.अकील कुरैशी) : प्रदेश भर में आज से सुरु हुए अनिश्चितकालीन अपने 9 सूत्रीय मांग के समर्थन में शिक्षा कर्मियो के आंदोलन के तहत डोंगरगढ़ में विधायक निवास के सामने हो रहे आंदोलन में काली पट्टी लगाकर डोंगरगढ न.पा. परिषद् अध्यक्ष तरुण हथेल पहुँचकर शिक्षा कर्मी संघ आंदोलनको समर्थन देते हुए भाजपा सरकार के मुखिया पर हमला बोला और कहा कि यह हड़ताल 14 वर्ष पुरानी है जिसे शिक्षा कर्मी भाई अपने 9 सूत्रीय माँग को सरकार से करते आ रहे है। प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने चुनावी फायदे के लिए 1 घण्टे में शिक्षा कर्मियो की मांग पूरा करने वाली थी जो आज 14 वर्ष हो गए पूरा नहीं किया जो पूरी तरह से गलत है गुरु जी लोगो को वनवास करवा दी गई कई बार धरना प्रदर्शन संघ के द्वारा रखा गया लेकिन सरकार बहरी,अन्धीहो गई न इसको दर्द दिखाई देता न सुनाई देता है1994 में अविभाजित मध्यप्रदेश ने यह शिक्षको की भर्ती की थी उस समय 500 रु वेतन के रूप में मिलता था।1 पर अब काम पूरा वेतन कम क्यो लड़ते लड़ते आज शिक्षा कर्मी वर्ग क्रमशः 1,2,3, कैटिगरी कुछ वेतन बड़ा आज तक बिना धरना प्रदर्शन के सरकार ने एक रुपया नही बढ़ाया ? सरकार को अपना व पार्टी का स्वार्थ हो तो सेकेंड मिन्टो में आधी रात के कैबिनेट की बैठक बुलाकर उन स्वार्थ को पूरा कर लिया जाता है,चुनावी घोषणा पत्र में वादा करने के बाद फिर पूरा क्यो नही किया गया जनता व छोटे कर्मचारियों के लिये इस सरकार के पास 14 वर्षो में समय नही मिला मेरा आरोप है जो राजनीति दल अपना जनता से किया हुआ वादा पूरा नही करता उनके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट FIR दर्ज करे जनहित में अपने विवेक से ये अधिकार कोर्ट के पास सुरक्षित है।नैतिकता के नाम पर रमन सिहँ की सरकार को पद पर बने रहने का कोई अधिकार नही है,अपने पद से इस्तीफा दे।blast-newsइससे पहले विधायक निवास के सामने लगे पंडाल में विशाल समूह में एकत्रित शिक्षा कर्मियो ने दीप प्रजलवित कर पदाधिकारियो ने अपने ललकार भरे भाषण से गुंजायमान करते हुए सरकार से मांग दोहराते हुए पूरा नहीं होने तक जारी रखने की बात कही। आंदोलन को समर्थन देने कांग्रेस,आप,बसपा सहित कई समाज सेवी संगठन भी आकर समर्थन देकर मांग को जायज ठहराया।।

Filed in: रायपुर

No comments yet.

Leave a Reply