10:54 pm - Monday November 20, 2017

ऐसा स्टार्टअप शुरू करोगे तो google भी देगा कर्ज

1रायपुर। तकनीकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी गूगल स्टार्टअप कंपनियों पर मेहरबान हो गई हैं। छत्तीसगढ़ की 36 स्टार्टअप कंपनियों में से हरेक को गूगल 20-20 हजार डालर की क्रेडिट सहायता फ्री क्लाउड के लिए देगा। उद्यमी इसके जरिए ऑनलाइन अपना कारोबार कर सकते हैं। गूगल राज्य की 3858 स्टार्टअप कंपनियों को 3 हजार डालर की फ्री क्लाउड की सुविधा भी देगा।

केन्द्र सरकार से प्रमाणित राज्य की 36 स्टार्टअप कंपनियों के रविवार को तेलीबांधा स्थित एक होटल में हुए सम्मान समारोह में यह जानकारी मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने दी। 36आईएनसी इन्क्यूबेशन का भूमिपूजन

कार्यक्रम के दौरान सीएम ने छत्तीसगढ़ के पहले 36आईएनसी इन्क्यूबेशन सेंटर का भूमिपूजन किया। इस सेंटर को केंद्र सरकार ने अटल अभिनव केंद्र के रूप में चुना है।

राजधानी के सिटी सेंटर मॉल में लगभग 30 हजार वर्ग फीट में शुरू होने वाला यह सेंटर राज्य के युवा उद्यमियों को विश्व स्तर के उद्यमियों के साथ मिलकर अपने स्टार्टअप आइडिया को विकसित करने का मौका देगा। इस सेंटर में 200 से अधिक वर्क स्टेशन और अत्याधुनिक लैब का प्रावधान है, जिसमें 3 डी पिं्रटर, लेजर कटर और मल्टी मीडिया निर्माण की सुविधा मिलेगी।

स्टार्टअप आइडिया वट बीज की तरह

सीएम ने कहा कि स्टार्टअप वट के बीज की तरह है। वट वृक्ष का बीज दुनिया में सबसे छोटा बीज होता है, लेकिन जब यह वृक्ष बनता है, तो सबसे ज्यादा छाया देता है। स्टार्टअप एक बीज की तरह ही हैं।

असफलता के डर से प्रयोग बंद नहीं किया

युवा उद्यमियों को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा- छत्तीसगढ़ में संभावनाएं हैं, यहां के युवा प्रतिभाशाली हैं। स्टार्ट अप के लिए बेहतर माहौल है। राज्य अभी 17 साल का ही है। रिस्क लेने की सबसे ज्यादा क्षमता इस उम्र में ही होती है। यही वजह है कि हमने असफलताओं के डर से कभी प्रयोग करना बंद नहीं किया। नई नीतियां बनाई, उसे लागू किया और उन नीतियों की वजह से ही राज्य की पहचान पूरे देश में बनी।

छत्तीसगढ़ की नीति सर्वश्रेष्ठः अमर

उद्योग मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की नवाचार और उद्यमिता विकास नीति देश की सर्वश्रेष्ठ नीतियों में से एक है।

38 हजार में से 36

छत्तीसगढ़ के सभी 27 जिलों और प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थाओं में राज्य सरकार के वाणिज्य और उद्योग विभाग ने बूट शिविरों का आयोजन किया, जिनमें लगभग 3858 युवाओं ने अपना पंजीयन करवाया। इन युवाओं ने स्टार्ट-अप छत्तीसगढ़ योजना को एक बड़ी चुनौती के रूप में स्वीकार कर इन शिविरों में हिस्सा लिया। इनमें से भारत सरकार के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने अब तक 36 युवाओं के स्टार्टअप को प्रमाणित किया है।

Filed in: टेक्नोलॉजी

No comments yet.

Leave a Reply