3:11 pm - Sunday November 24, 5050

ओडिशा: भगवान पर FACEBOOK टिप्पणी के बाद दंगा, भद्रक में लगा कर्फ्यू

v

Firoz Siddiqui,chief Editor,9644670008

नई दिल्ली। भुवनेश्वर से लगभग 114 किमी, ओडिशा के भद्रक शहर में गुरुवार को सैकड़ों दुकानों को आग लगा दी गई और सड़कें बंद कर दी गईं।

वहां दो समुदाय के बीच हिंसा के बाद ऐसा हुआ। कल भगवान राम और सीता पर फेसबुक पर कथित अपमानजनक टिप्पणी से उत्पन्न होने वाली लड़ाई को हल करने में विफल रहने के बाद भद्रक में कर्फ्यू लगाया गया था।

स्थिति को काबू करने के प्रयास में डीएसपी और एक निरीक्षक सहित कम से कम चार पुलिसवाले घायल हो गए थे। यह सब तब शुरू हुआ जब वीएचपी और बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ताओं ने तीन मुस्लिमों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जिन्होंने फेसबुक पर भगवान की कथित निंदा की टिप्पणियां पोस्ट की थी।

एक समूह ने प्रदर्शन किया और स्थानीय शहर पुलिस स्टेशन के बाहर धरना शुरू किया। वो आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। अगले दिन दोनों समूहों के बीच एक शांति बैठक बुलाई गई लेकिन इससे कोई भी हल नहीं निकला। शांति समिति की बैठक के किसी भी नतीजे पर पहुंचने में विफल रहने के बाद भीड़ पुलिसकर्मियों से भिड़ गई और पत्थरबाजी शुरू कर दी।

पुलिस ने बताया कि उप-विभागीय पुलिस अधिकारी (एसडीपीओ) सुधाकर जेना घायल हो गए थे और इस घटना में एक पुलिस वाहन क्षतिग्रस्त हो गया था। जिला प्रशासन द्वारा बिजली और इंटरनेट सेवाएं बंद दी गई हैं।

भद्रक के पुलिस अधीक्षक दिलीप दास ने कहा कि शहर के कई इलाकों में ताजा हिंसा हुई, प्रशासन ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए कर्फ्यू लगा दिया है। भद्रक में पुलिस की 10 प्लाटून तैनात हैं। वहां लगभग 30 प्लाटूनों को और भेजा गया है। एक समूह ने जुलूस निकाला और कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणियां उठाईं।

इससे दूसरे समूह ने तेजी से प्रतिक्रिया दी। पुलिस ने लाठीचार्ज का सहारा लिया और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए हल्के बल का इस्तेमाल किया। क्योंकि सीआरपीसी की धारा 144 के तहत लगाए निषेध आदेश का उल्लंघन करने के प्रयास किए गए थे।

हाई स्कूल, टाउन हॉल, बोनथ और अखंडलमनी छाख सहित विभिन्न स्थानों पर सड़क अवरोध लगाए गए थे। राज्य सरकार ने ग्यानरंजन दास को नियुक्त किया। वो भद्रक कलेक्टर के रूप में कटक नगर निगम (सीएमसी) के आयुक्त थे। उनसे तुरंत प्रभारी लेने के लिए कहा गया।

सामाजिक न्याय और सशक्तीकरण राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर कल भद्रक में एक समारोह में शामिल होने वाले थे। उन्होंने कहा कि उन्हें शहर की तनावपूर्ण स्थिति के बारे में सूचित किया गया है।

उनका कहना है कि जब तक भद्रक की स्थिति सुधार नहीं हो जाता, मैं वहां नहीं जाऊंगा। भद्रक मुस्लिम जमात के राष्ट्रपति अब्दुल बारी ने एक बयान में भगवान राम के बारे में कथित टिप्पणी की निंदा की और प्रकरण में शामिल लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई की मांग की है।

Filed in: उड़ीसा, जुर्म, टॉप 10

No comments yet.

Leave a Reply