6:18 pm - Wednesday September 20, 2017

कांग्रेस के दबाव के चलते भाजपा सरकार को मजबूरी में करनी पड़ी एक वर्ष की बोनस देने की घोषणा : भूपेश

img-20170911-wa0011Blast News Editor Firoz Siddiqui ,9644670008

रायपुर: मां बम्लेश्वरी की नगरी डोंगरगढ़ में आयोजित कांग्रेस का किसान आक्रोश रैली में जिस प्रकार से किसानों ने छ.ग. सरकार द्वारा अपने संकल्प पत्र में धान का समर्थन मूल्य 2100 रूपये प्रति क्ंिवटल और 300 रूपये प्रति क्ंिवटल बोनस देने की बात कहीं थी और सूखे की इस हालत में जब सरकार पिछले 3 वर्षो के बोनस की देनदार है उसके बाद भी मात्र एक वर्ष की बोनस की राशि घोषणा कर किसानों के साथ जो छल किया है उसका आक्रोश आयोजन में साफ झलक रहा था। सभा स्थल पर ऐतिहासिक भीड़ को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी श्री पी.एल. पुनिया ने राज्य सहित केन्द्र की भाजपा सरकार की नीतियों की जमकर आलोचना करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार के पास कोई योजना नहीं है। जनहित की जितनी भी योजनाएं संचालित है वह कांग्रेस शासनकाल की है मात्र मोदी सरकार ने उन योजनाओं का नाम बदलने का ही काम किया है। img-20170911-wa0012छ.ग. में किसानों की हालत सरकार की नीतियों के कारण दयनीय है उसके बाद भी राज्य सरकार उन्हें समुचित लाभ नहीं देकर उनके साथ अन्याय कर रही है, जिस प्रदेश में किसान सरकार की गलत नीतियों के कारण आत्महत्या कर रहे हो उस सरकार को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं है। प्रदेश प्रभारी के ओजपूर्ण उद्बोधन से उपस्थित जनमानस में उत्साह का संचार हुआ है।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने अपने तेज तर्रार अंदाज में सरकार को घेरते हुए कहा कि जो सरकार किसानों का सही आकड़ा नहीं बता पा रही है और मात्र एक वर्ष का बोनस की घोषणा कर किसानों के साथ छल किया है। उन्होंने यह भी कहा कि किसानों के इस मुद्दे पर राज्य सरकार एक दिन का सत्र बुलाकर औपचारिकता निभा रहीं है। जबकि कांग्रेस किसान एवं जनहितैशी निर्णयों के लिए सप्ताह भर विधानसभा सत्र कि मांग कर रही है। आकंठ भ्रष्टाचार में डूबी राज्य सरकार अपने दागी मंत्रियों को बचाने के लिए विधानसभा सत्र के बीच में समाप्त कर लोकतंत्र की हत्या करने से भी नहीं चुक रही है। img-20170911-wa0014श्री बघेल ने पनामा और नान घोटाले जैसे मामले पर मुख्यमंत्री के पुत्र और पत्नी के नाम आने पर मुख्यमंत्री का वीणा सिंह को नहीं जानने की बात को भी जनता के बीच रखा। प्रदेश कांग्रेस लगातार किसानों के लिए संघर्ष कर रहीं है। किसानों का 15 क्ंिवटल धान खरीदी का निर्णय कांग्रेस की आर्थिक नाकेबंदी के दबाव का परिणाम है। सुखे की भयानक मार झेल रहे प्रदेश को अब तक सुखा घोषित न कर मुख्यमंत्री अपना आभार जतवा रहे है। किसानों को मिलने वाली बिजली आए दिन गोल रहती है। छ.ग. में फसल बीमा का भुगतान भी न कर बीमा कम्पनी को लाभ पहुंचाने का काम राज्य सरकार कर रहीं है। छ.ग. में किसानों को नकली बीज और नकली खाद वितरण करना राज्य सरकार की नाकामी का परिणाम बताया।
सभा को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव द्वय कमलेश्वर पटेल, अरूण उरांव, पूर्व केन्द्रीय मंत्री चरणदास महंत, सांसद ताम्रध्वज साहू, पूर्व नेता प्रतिपक्ष रविन्द्र चौबे, विधायक धनेन्द्र साहू, सत्यनारायण शर्मा आदि ने भी संबोधित करते हुए संबोधित करते हुए किसानों की तीन वर्षो के बकाया बोनस को ब्याज सहित देने के अलावा सरकार की कुनीतियों को जनता के बीच रखकर सरकार की बखिया उधेड़ी। img-20170911-wa0007
मां बम्लेश्वरी की नगरी डोंगरगढ़ के छिरपानी प्रांगण में खचाखच भरे आयोजित उक्त सभा में किसान अपनी जायज मांगों के अलावा किसानों की तकलीफो के लिए निरंतर संघर्षरत प्रदेश कांग्रेस कमेटी छ.ग. के प्रति आभार भी व्यक्त किये। नेताओं के काफिले का राजनांदगांव जिला प्रवेश करते हुए अंजोरा से डोगरगढ़ के बीच दर्जनों स्थानों पर कार्यकर्ताओं ने रोककर जोरदार स्वागत करते हुए कांग्रेस पार्टी और अपने नेताओं के गगन भेदी नारे लगाये।img-20170911-wa0009

Filed in: छत्तीसगढ़, टॉप 10, पॉलिटिक्स, बड़ी खबर

No comments yet.

Leave a Reply