3:11 pm - Saturday November 22, 4347

केंद्रीय कर्मचारियों को तोफा – महंगाई भत्ते में हुआ 5% का इजाफा

2Blast News Editor Firoz Siddiqui ,9644670008

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया कि अपSelect Filesने केंद्र कर्मचारियों और पेंशनधारियों का महंगाई भत्ता एक प्रतिशत से बढ़ाकर 5 प्रतिशत कर दिया है। इस फैसले से केंद्र के 50 लाख कर्मचारियों और 61 लाख पेंशनधारियों को लाभ मिलेगा।

इसके अलावा उन्होने कैबिनेट ने संशोधन बिल, 2017 को संसद में पेश करने की मंजूरी भी दी। इसके तहत सरकार ग्रैच्युटी पर टैक्स छूट सीमा को दोगुना करना चाहती है। अब तक 10 लाख रुपये से अधिक राशि की ग्रैच्युटी पर टैक्स लगता रहा है, लेकिन अब ग्रैच्युटी पर छूट की सीमा को 20 लाख रुपये तक की जा सकती है। रिटायरमेंट के बाद नियोक्ता की ओर से एंप्लॉयी को ग्रैच्युटी की रकम दी जाती है। इसके अलावा कंपनियां 5 साल या उससे अधिक समय तक नौकरी करने पर भी एंप्लॉयीज को यह लाभ देती हैं।

महंगाई भत्ते की नई दरें 1 जुलाई से लागू की जायगी । चालू वित्त वर्ष की 8 महीने की अवधि (जुलाई, 2017 से फरवरी, 2018) के दौरान महंगाई भत्ता और महंगाई राहत (डीआर) से सरकार पर क्रमश: 3,068.26 करोड़ रुपये और 2,045.50 करोड़ रुपये का बोझ झेलना पड़ेगा। इस कदम से केंद्र सरकार के 49.26 लाख कर्मचारियों और 61.17 लाख पेंशनधारियों को लाभ मिलेगा।

कब होती है ग्रैच्युटी की पेमेंट
आमतौर पर एंप्लॉयी के रिटायर होने पर ही ग्रैच्युटी ही पेमेंट की जाती है। इन के आलावा इन स्थिति यदि वह संस्थान में 5 साल तक काम करने के बाद इस्तीफा देता है। पेंशन की स्थिति में। यदि कोई एंप्लॉयी 5 साल पूरे नहीं कर पाता है और बीच में ही उसकी मृत्यु हो जाती है तब भी उसके परिवार को ग्रैच्युटी की राशि मिलेगी। 5 साल का कार्यकाल पूरा न होने से पहले ही यदि वह हादसे के चलते अक्षम हो जाता है या फिर वह किसी बीमारी का शिकार हो जाता है, तब भी उसे ग्रैच्युटी का लाभ मिलेगा।

 

Filed in: टॉप 10, बड़ी खबर, मुख्य समाचर, व्यापार

No comments yet.

Leave a Reply