3:16 pm - Tuesday January 22, 0661

छत्तीसगढ़ : ‘सरकार में आदिवासी मंत्रियों को बोलने की इजाजत नहीं, चुप रहे इसीलिए उपजे ऐसे हालात’

bhai
रायपुर। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और आदिवासी नेता अरविंद नेताम ने एक तरफ आदिवासी मंत्रियों की तारीफ की, वहीं दूसरी तरफ उन्होंने आदिवासियों के आंदोलन के लिए उन्हें ही जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार में आदिवासी मंत्री को बोलने की इजाजत नहीं है।

अरविंद नेताम ने कहा कि, ‘अगर आदिवासी नेता सरकार के सामने जुबान खेालते तो आज जो दुर्गति भू-राजस्व संशोधन विधेयक बिल को वापस लेने में हुई है वह नहीं होती।’ नेताम ने कहा कि, ‘ये चिंता का विषय है कि, जो समाज सड़क पर नहीं आना चाहता है आज वो समाज सड़क पर आने को मजबूर हो रहा है।


नेताम ने कहा कि, ‘आने वाले दिनों में आदिवासी समाज को सोचने पर मजबूर होना पड़ेंगा कि, क्या गूंगे और बहरे जनप्रतिनिधियों को लोकसभा या विधानसभा में भेजा जाना चाहिए।’


गौरतलब है कि भाजपा और कांग्रेस सहित आदिवासी समाज से जुड़े नेताओं के दबाव के चलते सरकार के द्वारा भू-राजस्व संशोधन विधेयक को वापस लिए जाने से प्रदेश का आदिवासी वर्ग काफी ज्यादा उत्साहित है।

SOURCE BY EENADU
Filed in: छत्तीसगढ़, टॉप 10, पॉलिटिक्स

No comments yet.

Leave a Reply