11:58 am - Thursday April 19, 2018

जलियांवाला बाग नरसंहार के लिए ब्रिटेन मांगे माफी : लंदन के मेयर

vअमृतसर: हर कोई जानता है 1919 में जलियांवाला बाग में हुए खूनी कांड के बारे में। जलियांवाला बाग अमृतसर के स्वर्ण मंदिर के पास का एक छोटा सा बगीचा है जहां 13 अप्रैल 1919 को ब्रिगेडियर जनरल रेजिनाल्ड एडवर्ड डायर के नेतृत्व में अंग्रेजी फौज ने गोलियां चला कर निहत्थे, शांत बूढ़ों, महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों लोगों को मार डाला था और हज़ारों लोगों को घायल कर दिया था। यदि किसी एक घटना ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर सबसे अधिक प्रभाव डाला था तो वह घटना यह जघन्य हत्याकाण्ड ही था।

blast-newsइसी घटना की याद में यहाँ पर स्मारक बना हुआ है। आज जलियांवाला बाग में 1919 में हुए खूनी हादसे के शहीदों को श्रद्धांजलि भेंट करने के लिए लंदन के मेयर सादिक खान आए और उन्होंने कहा कि ब्रिटिश सरकार की तरफ से उस समय पर अंजाम दिए गए इस जघन्य हत्याकाण्ड के लिए माफी मांगनी चाहिए। इससे पहले उन्होंने स्वर्ण मंदिर में माथा भी टेका। स्वर्ण मंदिर में नतमस्तक होने के बाद वह जलियांवाला बाग पहुंचे।

उन्होने वहां बने शहादत स्मारक में श्रद्धांजलि भेंट की और उस समय पर हुए खूनी हादसे के बारे में सारी जानकारी भी ली। इस के बाद उन्होंने विजीटर बुक में लिखा कि अब समय आ गया है कि ब्रिटिश सरकार उस समय पर मारे गए लोगों के लिए माफी मांगे। पाकिस्तानी मूल के सादिक खान लंदन के मेयर बनने के बाद पहली बार भारत दौरे पर आए हैं। उन्होंने कहा कि जलियांवाला बा में आकर उन्होंने शहीदों को श्रद्धाँजलि तो भेंट की है परन्तु उस समय पर हुए इस खूनी हादसे के बारे में सोचकर दुख भी लगा है। स्वर्ण मंदिर पहुंचे सादिक खान ने लंगर घर में सेवा की और गुरू राम दास लंगर हाल में पंगत में बैठ कर लंगर भी खाया।

 

Filed in: टॉप 10, पंजाब, बड़ी खबर

No comments yet.

Leave a Reply