7:55 pm - Tuesday January 23, 2018

बेंगलुरु : सिलेंडर फटने से इमारत ढही, 6 लोगों की मौत

2बेंगलुरु : बेंगलुरु में सोमवार सुबह एक बड़ा हादसा हुआ। शहर के इजीपुरा इलाके में स्थित एक घर में रसोई गैस सिलेंडर में ब्लास्ट हो गया। ब्‍लास्‍ट इतना जबरदस्‍त था कि इसकी चपेट में तीन और मकान आ गए। कुल 4 मकान इस ब्‍लास्‍ट की वजह से गिर गए। इस हादसे में अब तक 6 लोगों के मारे जाने की खबर है। हादसे के बाद राहत और बचाव कार्य जारी है। आशंका जताई जा रही है कि मकानों के मलबे में कुछ लोग दबे हो सकते हैं।

वहां मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि विस्फोट सुबह करीब सात बजे हुआ. उन्होंने बताया कि धमाके की जोरदार आवाज सुनाई दी और 20 साल पुरानी इमारत देखते-देखते मलबे में तब्दील हो गई.1

दमकल विभाग एवं राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के कर्मचारियों को मौके पर भेजा गया, जिन्होंने मलबे से लोगों के शव बरामद किए. मरने वालों में दो महिलाएं भी शामिल थीं. दो मृतकों की पहचान कलावती (68) और रविचंद्रन (30) के तौर पर हुई है.

पुलिस ने बताया कि मलबे से दो बच्चों को जीवित निकाला गया, जिनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है.

गृहमंत्री रामालिंगा रेड्डी ने कहा है कि इस घटना में छह लोगों की मौत हो गई है, जिनमें से पांच लोग इसी बिल्डिंग में रहते थे और एक पड़ोसी था. रेड्डी ने कहा कि बिल्डिंग के ग्राउंड और फर्स्‍ट फ्लोर पर रखे सिलेंडरों में गैस नहीं थी, इसलिए यह संभावना नहीं है कि विस्फोट के कारण इमारत ढही.

मौके का जायजा लेने पहुंचे कर्नाटक के गृहमंत्री रामलिंगा रेड्डी ने संवाददाताओं को बताया कि इमारत गणेश नामक एक व्यक्ति की थी. उन्होंने बताया कि गणेश ने यह इमारत चार परिवारों को किराये पर दे रखी थी. मंत्री ने बताया, ‘दो परिवार भूतल पर रहते थे, जबकि एक परिवार पहली मंजिल पर रहता था. कलावती और रविचंद्रन पहली मंजिल पर रहते थे. इन दोनों की मौत मौके पर ही हो गयी थी, जबकि दो बच्चे हादसे में घायल हो गए थे. हालांकि वे सुरक्षित हैं. निचले तल पर रह रहे परिवारों के सदस्यों के मलबे में फंसे होने की आशंका है’. बेंगलुरु के महापौर आर संपत राज ने बताया कि इमारत में चार परिवार रह रहे थे.

दमकल की कम से कम 40 गाड़ियां और एनडीआरएफ के कर्मचारी बचाव अभियान में जुटे रहे. पुलिस ने बताया कि इमारत में फंसे लोगों को बचाने के लिये मलबा हटा रहे दमकल के तीन कर्मचारियों के ऊपर मलबा गिर जाने के कारण वे घायल हो गए. उन्होंने बताया कि उन्हें उपचार के लिए पास के अस्पताल ले जाया गया.

वहीं, विकास मंत्री केजे जॉर्ज ने कहा कि मृतकों के परिजनों को पांच लाख तथा घायलों को 50 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा. इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि सरकार ने निर्णय लिया है कि वह इस हादसे के बाद बचाई गई बच्‍ची, जिसके माता-पिता की घटना में मौत हो गई है, को गोद लेगी और उसके पालन-पोषण समेत सभी खर्चों का वहन करेगी.

 

Filed in: कर्नाटक, टॉप 10, बड़ी खबर, राज्य

No comments yet.

Leave a Reply