10:42 pm - Monday November 20, 2017

DUSU Election Results 2017 : 4 साल बाद ABVP की हार, अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद पर NSUI का कब्जा

2

Blast News Editor Firoz Siddiqui ,9644670008

नई दिल्ली  : दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव के नतीजे आ चुके हैं। काफी कड़े मुकाबले के बाद अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद पर एनएसयूआई ने जीत दर्ज कर ली है जबकि सचिव और सह सचिव का पद एबीवीपी के झोली में गया है। सुबह जब मतगणना की शुरुआत हुई उस समय कई राउंड तक यह बताया जाना मुश्किल लग रहा था कि इस बार के चुनाव में जीत किसकी झोली में जाएगी। हालांकि सभी 16 राउंड पूरे हो जाने के बाद जो नतीजे सामने आए उसमें चार साल बाद एनएसयूआई ने अध्यक्ष पद पर कब्जा लिया। अध्यक्ष पर रॉकी तुषीद को 16299 वोट मिले जबकि दूसरे स्थान पर हे रजत चौधरी को 14709 वोट हासिल हुए। इसी तरह उपाध्यक्ष के पद पर कुनाल सेहरावत को 16437 वोट मिले जबकि एबीवीपी के प्रार्थ राणा को 16256 वोट हासिल हुए।

दो पदों पर एबीवीपी को करना पड़ा संतोष
एबीवीपी को इस बार के छात्रसंघ चुनाव में चार में से दो सीटों पर ही जीत हासिल हो सकी। सचिव पद पर एबीवीपी के महामेधा नागर को 17156 वोट मिले जबकि एनएसयूआई की मिनाक्षी मीना को 14532 वोट हासिल हुए। इसी तरह सह सचिव के पद के लिए हुए चुनाव में एबीवीपी उमा शंकर को 16691 वोट मिले जबकि एनएसयूआई के अविनाश यादव को 16349 वोट हासिल हुए।

दोपहर 12.35 बजे : अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के पद पर एनएसयूआई के प्रत्याशियों का जीतना तय

दोपहर 12.30 बजे: 10 राउंड की काउंटिंग पूरी, तीन सीटों पर एनएसयूआई के प्रत्याशी भारी मतों से आगे। अभी 6 राउंड की मतगणना होना बाकी

सुबह 10.00 बजे: NSUI ने रॉकी तुषीद पहले दो राउंड में एबीवीपी के उम्मीदवार रजत चौधरी से आगे। जबकि तीसरे नंबर पर आईसा की पारुल चौहान हैं।

सुबह 09.30 बजे: 125 वोटिंग मशीन में मतगणना का काम शुरू किया गया। शुरुआती 16 राउंड के नतीजों में एनएसयूआई का पलड़ा भारी।

लाइव मतगणना देखने के लिए लगाई गई स्क्रीन
डूसू चुनाव में पारदर्शिता लाने के लिए इस बार कैंपस में एक बड़ी स्क्रीन की व्यवस्था की गई है। इस स्क्रीन में मतगणना को लाइव दिखाया जा रहा है। प्रत्याशी और उनके समर्थक स्क्रीन से ही चुनाव की मतगणना को देख पा रहे हैं। हालांकि धूत तेज होने के कारण कुछ जगह स्क्रीन पर कुछ भी साफ-साफ नहीं दिखाई पड़ रहा है।

मॉर्निंग कॉलेजों में 45.31 फीसदी मतदान

दिल्ली विश्वविद्यालय में मंगलवार को छात्र संघ (डूसू) चुनाव के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान हुआ। डीयू के मॉर्निंग कॉलेजों में 45.31 फीसदी छात्र-छात्राओं ने वोट डाले, जबकि पिछले वर्ष इन कॉलेजों में सिर्फ 35 फीसदी मतदान हुआ था।  डूसू चुनाव में हिस्सा लेने वाले 51 कॉलेजों में 41 मॉर्निंग के हैं और 10 सांध्य कॉलेज हैं। सांध्य कॉलेजों में शाम 7:30 बजे तक मतदान चलने की वजह से उनका मतदान प्रतिशत देर रात तक जारी नहीं किया जा सका। चुनाव की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली पुलिस के जवानों ने बैरिकेडिंग की थी। कॉलेजों के बाहर भी पूरी चौकसी के साथ पुलिस बल तैनात रहा। इस दौरान हर आने जाने वाले पर नजर रखी जा रही थी।  सुबह से ही कॉलेजों के बाहर छात्र-छात्राएं मतदान करने के लिए पहुंचने लगे थे। चुनावों के बाद आज सुबह 8:30 बजे मतों की गिनती की जाएगी और दोपहर 12 बजे तक परिणाम घोषित हो जाएगा।

अधिकतर कॉलेजों में 50 फीसदी से कम मतदान  

डीयू के कॉलेजों में इस बार भी मतदान का प्रतिशत कम ही रहा। डीयू में कुल 1.23 लाख छात्र हैं जिन्हें अपने मताधिकार का प्रयोग करना था। हालांकि मतदान के लिए बेहद कम छात्र बाहर निकले। हालांकि, यह बीते वर्ष के मुकाबले अधिक संख्या में छात्र मतदान करने पहुंचे।  डीयू में मंगलवार को मतदान के कारण सुबह की पाली में लगने वाले कॉलेजों में 1 बजे तक और शाम की पाली वाले कॉलेजों में 7:30 बजे तक मतदान हुआ। डीयू के चुनाव अधिकारी का कहना है कि सुबह के 41 कॉलेजों में 45.31 फीसदी छात्र-छात्राओं ने वोट डाले। बता दें कि शाम की पाली वाले कुल 10 कॉलेज हैं, यहां देर शाम तक मतदान होता रहा। गौरतलब है कि डीयू में कुल 81 कॉलेज हैं जिनमें से लगभग 51 कॉलेजों में मतदान किया जाता है।

डूसू के लिए 24 प्रत्याशी मैदान में

डूसू चुनाव में इस बार कुल 24 प्रत्याशी मैदान में हैं। इनमें अध्यक्ष पद के लिए 10 प्रत्याशी, उपाध्यक्ष के लिए 5 प्रत्याशी, सचिव और सहसचिव पद के लिए क्रमश:  5 और 4 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। हालांकि, मुख्य मुकाबला एनएसयूआई और एबीवीपी के बीच बताया जा रहा है। मगर,वामपंथी संगठन आइसा और एसएफआई भी इस बार मजबूती के साथ चुनाव मैदान में डटे हुए दिखाई दिए। डूसू सुनाव के मुख्य चुनाव अधिकारी प्रो. के मुताबिक इस बार डीयू में सवा लाख मतदाता पंजीकृत थे।

कॉलेजों में मतदान प्रतिशत

आर्यभट्ट कॉलेज                 14%
स्वामी श्रद्धानंद कॉलेज          45%
अदिति महाविद्यालय             30%
भगिनी निवेदिता                  35%
किरोडीमल कॉलेज                36%
रामजस कॉलेज                    50%
श्यामाप्रसाद मुखर्जी              28%
रामानुजन कॉलेज                 25%
देशबंधु कॉलेज                     40%
श्यामलाल मॉर्निंग               43.63%
आत्माराम सनातन धर्म        53%
कैंपस ऑफ लॉ सेंटर              57%
राजधानी कॉलेज                  56.2%
श्रीराम कॉलेज                      58%
शहीद भगत सिंह                   30%
पीजीडीएवी कॉलेज                 20%

Filed in: टॉप 10, दिल्ली, पॉलिटिक्स, बड़ी खबर

No comments yet.

Leave a Reply