6:12 pm - Wednesday September 20, 2017

PM मोदी-शिंजो आबे आज करेंगे अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन का उद्घाटन

5Blast News Editor Firoz Siddiqui ,9644670008

नई दिल्ली: जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के भारत दौरे का आज दूसरा दिन हैं। शिंजो इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से विभिन्न मुद्दों पर वार्ता करेंगे और दोनों ही नेता महत्वाकांक्षी 1.08 लाख करोड़ रुपये (17 अरब डॉलर) की अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना की नींव रखेंगे।

मोदी और आबे साबरमती रेलवे स्टेशन के पास एथलेटिक स्टेडियम में हाई-स्पीड रेल प्रोजेक्ट के उद्घाटन समारोह में भाग लेंगे।

इसके बाद, दोनों नेता गांधीनगर में 12वीं वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन करेंगे, जिसमें लगभग 15 समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाने की उम्मीद जताई जा रही है।

आपको बता दें कि यह सम्मेलन मोदी और आबे के बीच चौथा वार्षिक शिखर सम्मेलन होगा, जहां दोनों देशों के बीच विशेष रणनीतिक और वैश्विक भागीदारी के ढांचे के तहत बहुमुखी सहयोग में प्रगति की समीक्षा की जाएगी।

2जापान उन दो देशों में से एक है, जिनके साथ भारत के ऐसे वार्षिक शिखर सम्मेलन होते है, दूसरा देश रूस है। दोनों देशों के प्रधानमंत्री भारत-जापान बिजनेस लीडर फोरम में भी शामिल होंगे।

इससे पहले बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिंजो आबे का गर्मजोशी से अहमदाबाद एयरपोर्ट पर स्वागत किया। इसके बाद दोनों नेता रोड शो करते हुए महात्मा गांधी के साबरमती आश्रम और अहमदाबाद की संस्कृति का प्रतिनिधित्व करती प्रतिष्ठित सिदी सैयद मस्जिद पहुंचे।

दोनों नेताओं ने अहमदाबाद हवाई अड्डे से एक खुली जीप में साबरमती आश्रम के शांत माहौल तक आठ किलोमीटर की यात्रा की, जहां उन्होंने जापान की प्रथम महिला अकी आबे के साथ महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की।

पूरे रोड शो के दौरान, सड़क के दोनों किनारों पर खड़े लोगों ने खुशी और उत्साह से नेताओं का स्वागत किया। आबे, ने भारत में कदम रखते वक्त सूट पहना हुआ था, जिसे उतारकर, एक सफेद चुड़ीदार-कुर्ता और चमकदार नीले रंग की जैकेट पहन लिया। उनकी पत्नी ने लाल रंग का मुद्रित कुर्ता और सादे रंग की पैंट पहनी हुई थी।

मोदी आबे दंपति को आश्रम के दौरे पर ले गए जहां तीनों गणमान्य व्यक्तियों ने फोटो खिंचवाई, जिनमें से एक चरखे के सामने शामिल थी।

दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटने के बाद महात्मा गांधी ने अपना पहला आश्रम अहमदाबाद के कोचराब में मई 1915 में स्थापित किया था जिसे जून 1917 में साबरमाती नदी के किनारे स्थानांतरित कर दिया गया।

साबरमती आश्रम 1917 से लेकर 1930 तक महात्मा गांधी का घर और भारत के स्वतंत्रता संघर्ष का एक महत्वपूर्ण केंद्र रहा। शिन्जो और उनकी पत्नी ने बुधवार को अपने दौरे के दौरान आश्रम की आगंतुकों की पुस्तिका पर हस्ताक्षर किए।

वहां कुछ समय बिताने के बाद, शिंजो आबे और अकी आबे अहमदाबाद के केंद्र में स्थित सिदी सैय्यद मस्जिद गए, जहां मोदी ने अनकी अगुवाई की। 16 वीं शताब्दी की मस्जिद अपनी खिड़की में महीन जाली के काम के लिए दुनिया भर में अहमदाबाद का पर्याय है।

Filed in: इंडिया, टॉप 10, मुख्य समाचर

No comments yet.

Leave a Reply