8:05 am - Friday September 22, 2017

Ryan Schoo : प्रद्युम्न की मां बोली, असली गुनहगार कोई और, कंडक्टर मोहरा..हो CBI जांच

1गुरुग्राम। रायन इंटरनेशल स्कूल में शुक्रवार को 7 वर्षीय बच्चे की हत्या से लोगों का दिल दहल गया। इस घटना से गुस्साए अभिभावक सडकों पर उतर आए और स्कूल के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं मृतक बच्चे की मां ने स्कूल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग की है। ज्ञातव्य है कि शुक्रवार को रायन इंटरनेशलन स्कूल में कक्षा 2 में पढने वाले 7 वर्षीय प्रद्युम्न की किसी ने स्कूल के टॉयलेट में चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी थी। बच्चे की हत्या के आरोप में स्कूल बस के एक कंडक्टर को गिरफ्तार किया गया है। वहीं बच्चे की मां ने न्यूज चैनलों से बात करते हुए कहा है कि असली गुनहगार कोई और है जिसे बचाने के लिए कंडक्टर को मोहरा बनाया जा रहा है। बच्चे की मां ने संदेह जताया है कि उनके बच्चे ने स्कूल के टॉयलेट में स्कूल से जुडे लोगों को कुछ गलत करते हुए देख लिया होगा। इसके बाद सच्चाई दबाने के लिए प्रद्युम्न की हत्या कर दी गई हो। बच्चे की मां ने पूरे मामले की सीबीआई से जांच की मांग करते हुए कहा कि उन्हें पुलिस की जांच पर भरोसा नहीं है। प्रद्युम्न की मां का कहना है कि जब उनका बच्चा बस से स्कूल जाता ही नहीं था तो बस कंडक्टर उसे क्यों मारेगा।

बचच्े की हत्या से गुस्साए अभिभावकों ने स्कूल के पास विरोध प्रदर्शन किया। अभिभावकों ने नेशनल हाइवे को जाम कर दिया। स्कूल के बाहर बडी तादाद में पुलिसबल तैनात कर दिया गया है। बडी संख्या में अभिभावकों और स्थानीय लोगों ने स्कूल गेट के बाहर प्रदर्शन किया। वहीं मृत छात्र के पिता वरुण ठाकुर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर शनिवार को अपने वकीलों के साथ पुलिस कमिश्नर ऑफिस पहुंचे।

वरुण ठाकुर के वकील ने कहा है कि स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई निश्चित है। उन्होंने बताया कि स्कूल की प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया गया है। अभिभावकों में इस घटना को लेकर बहुत आक्रोश है। अभिभावकों का कहना है कि जब स्कूल में अभिभावकों को भी भीतर घुसने की इजाजत नहीं है तो कंडक्टर भीतर कैसे घुसा।

कंडक्टर ने गुनाह कबूल किया:
बच्चे की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए स्कूल बस कंडक्टर अशोक ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। आरोपी ने कहा कि वह हर सजा के लिए तैयार है, उसकी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। गुरुग्राम पुलिस के डीसीपी ने बताया कि कंडक्टर ने बच्चे के साथ जोर-जबर्दस्ती की कोशिश की थी। जब बच्चे ने अलार्म बजा दिया तो कंडक्टर ने उसकी हत्या कर दी। आरोपी पिछले 6-8 महीने से यहां काम कर रहा था।

 

Filed in: जुर्म, टॉप 10, हरियाणा

No comments yet.

Leave a Reply